Hot Widget

Type Here to Get Search Results !

Ads

डीमैट अकाउंट (Demat Account) क्या है ?

Demat Account एक बैंक अकाउंट की तरह ही में एक ऐसा अकाउंट है जिसमे किसी भी कंपनी के शेयर को खरीद या बेच सकते है। आपने अक्सर Demat Account का नाम सुना होगा क्योंकि डीजे एक 2 सालों में डीमेट अकाउंट भारत में बहुत तेजी से खुला है 2020 के लॉकडाउन के बाद Demat Account और ट्रेडिंग अकाउंट ने काफी रफ्तार पकड़ी है। 

जैसा कि हमने बताया Demat Account एक ऐसा अकाउंट है जिसमें आप किसी भी कंपनी के शेयर को NSE या BSE से खरीदी और बेच सकते हैं। लेकिन पहले के समय में ऐसा नहीं था पहले जब आप किसी भी कंपनी के शेयर को खरीदते थे तब वह कंपनी आपको उस शेयर के बदले कुछ कागजात देती थी जो इस बात का सबूत होता था कि आपने उस कंपनी में निवेश किया है। लेकिन Demat Account आने के बाद शेयर मार्केट में निवेश और ट्रेडिंग का तरीका ही बदल सा गया है।

डीमैट अकाउंट क्या है ? - Demat Account in Hindi

Demat Account में भी कंपनियां आप को शेयर के बदले कागजात देती है लेकिन इसके लिए आपको अतिरिक्त शुल्क देना होता है। इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको बताएंगे कि Demat Account क्या होता है और आप किस प्रकार Demat Account खुलवा सकते हैं।

डीमैट अकाउंट (Demat Account) क्या है ? 

अगर आप ट्रेडिंग करना चाहते हैं या भारत की किसी भी कंपनी में इक्विटी के तौर पर पैसे निवेश करना चाहते हैं या आप ETF, म्यूच्यूअल फंड आदि इस प्रकार से जुड़ी सेवाओं का लाभ लेना चाहते हैं तो इसके लिए आपके पास डीमैट अकाउंट होना जरूरी है।

भारत की बड़ी-बड़ी कंपनियों में निवेश करके आप बहुत ही कम समय में अपने पैसे पर मुनाफा कमा सकते हैं आपने जिस कंपनी पर पैसा निवेश किया है अगर उस कंपनी को मुनाफा होता है तो आपके निवेश किए गए पैसे के आधार पर मुनाफा आपको भी दिया जाता है. 

कोई भी कंपनी या भारत सरकार खुद जब कोई IPO लाती है तो इसे खरीदने के लिए भी आपके पास डीमैट अकाउंट होना जरूरी है। जैसे अभी हाल ही में आपने देखा होगा भारत सरकार ने LIC का IPO जारी किया था। SEBI के नियमानुसार शेयर बाजार में पैसा निवेश करने के लिए आपके पास डीमैट अकाउंट होना अनिवार्य है। बिना Demat Account के किसी भी अन्य माध्यम से शेयर को बेचा या खरीदा नहीं जा सकता आज के समय में Demat Account बनाने के लिए आपको कहीं भी जाने की जरूरत नहीं है। Demat Account आप बड़ी आसानी से अपने मोबाइल से 5 मिनट में बना सकते हैं। 

डीमैट अकाउंट (Demat Accountखोलने के लिए आवश्यक दस्तावेज़

डीमैट अकाउंट खोलने के लिए आवश्यक दस्तावेजों की सूची निम्नलिखित है। 

  • आधार कार्ड (मोबाइल नंबर से लिंक किया हुआ)
  • पैन कार्ड 
  • मोबाइल नंबर 
  • कैंसल चेक / बैंक पासबुक 
  • आवेदक का बैंक अकाउंट 

डीमैट अकाउंट (Demat Accountकैसे खोले?

कोई भी वयक्ति जिसकी उम्र 18 साल से जयादा है वह डीमैट अकाउंट  खोल सकता है। डीमैट अकाउंट खोलने से पहले आप सुनिश्चित कर ले की आपके पास बताये गए दस्तावेज मौजूद हो। भारत में डीमैट अकाउंट NSDL और CDSL द्वारा खोला जाता है। लेकिन ऐसा जरुरी नहीं है डीमैट अकाउंट खोलने के आपको इनके पास जाना पड़े। यह कार्य आप घर बैठे आसानी से कर सकते है। 

डीमैट अकाउंट के लिए फुल सर्विस ब्रोकर और डिस्काउंट ब्रोकर दो प्रकार के ब्रोकर होते है। HDFC Securities, ICICI Direct आदि फुल सर्विस ब्रोकर के उद्धरण है और Upstox, AngelOne आदि डिस्काउंट ब्रोकर के उद्धरण है।

  • फुल सर्विस ब्रोकर और डिस्काउंट ब्रोकर में अंतर पढ़े

हर एक Stock Broker का अपना-अपना चार्ज है। अगर आप पैसे देकर डीमैट अकाउंट खोलना चाहते है तो आप Zerodha, HDFC Securites या ICICI Direct किसी के भी साथ डीमैट अकाउंट खोल सकते है। लेकिन अगर आप फ्री डीमैट अकाउंट खोलना चाहते है तो आप Upstox या AngelOne के साथ अपना अकाउंट खोल सकते है।

ऊपर दिए गए लिंक पर क्लिक कर के आप कुछ प्रमुख कंपनी के डीमैट अकाउंट के बारे में और उनमे अकाउंट खोलने के बारे में पढ़ सकते है। 

डीमैट अकाउंट के फायदे

Demat Account खोलने के अनेको फायदे है और आज के समय में आपके पास एक डीमैट अकाउंट तो होना ही चाहिए। हमारी सलाह है की आप डीमैट अकाउंट तभी खोले जब आपको Stock Market में पैसे निवेश करना हो। डीमैट अकाउंट होने से आपको शेयर खरीदने बेचने में आसानी होती है और साथ ही आपको ईमेल के माध्यम से आपके ख़रीदे गए शेयर की जानकारी दी जाती है। इसका सबसे बड़ा फायदा यह है की यहाँ धोकाधड़ी होने की संभावना सबसे कम होती है। 

Demat Account होने से आप आसानी से किसी भी कंपनी के IPO के माध्यम से उस कम्पनी में निवेश कर सकते है। यही नहीं Demat Account होने से आप शेयर्स को आसानी से किसी भी दूसरे Demat Account में ट्रांसफर कर सकते है। आपको अगर ट्रेडिंग का ज्ञान है तो आप Demat Account के माध्यम से ही ट्रेडिंग कर सकते है या अगर आप म्यूच्यूअल फण्ड में पैसे निवेश करना चाहते है तो आप आसानी से Demat Account के माध्यम से कर सकते है।

डीमैट अकाउंट के प्रकार (Types of Demat Account)

Demat Account मुख्यतः 3 प्रकार का होता है। आइये जानते है डीमैट अकाउंट के टाइप्स के बारे में -

नियमित डीमैट अकाउंट (Regular Demat Account): यह एक डीमैट अकाउंट है जो साधारण आम नागरिको के लिए होती है। 

अपाक्षीण डीमैट अकाउंट (Repatriable Account): यह अकाउंट NRI के लिए होती है। इस अकाउंट को NRI बैंक अकाउंट से लिंक जोड़ना होता है। 

गैर-प्रतिगामी डीमैट अकाउंट (Non-Repatriable Account): यह अकाउंट भी NRI के लिए होता है। लेकिन यहाँ आपको अपने डीमैट अकाउंट से NRO बैंक अकाउंट से लिंक करना जरुरी होती है। 

डीमैट अकाउंट से जुडी कुछ मुख्य बाते 

  • डीमैट अकाउंट खुलने के बाद आपको CDSL की तरफ से 16 अंको के डीमैट अकाउंट दिए जाते है। 
  • POA में दिए गए निर्देशों को आपको पढ़ लेना चाहिए। 
  • आप एक से अधिक डीमैट अकाउंट खोल सकते है। 
  • डीमैट अकाउंट में आपको किसी प्रकार की कोई न्यूनतम बैलेंस रखने की जरुरत नहीं है।
  • SEBI द्वारा रजिस्टर्ड स्टॉक ब्रोकर के साथ ही आपको डीमैट अकाउंट खुलवाना चाहिए। 

निष्कर्ष

अब आपको समझ आ गया होगा की डीमैट अकाउंट क्या होता है और इससे जुडी सारी बाते। हमारी सलाह है की शेयर बाज़ार में आपको उतने ही पैसे निवेश करना चाहिए जितने का आपको तुरंत जरुरत ना हो। यहाँ आपको हमेशा लम्बे समय के लिए ही निवेश करना चाहिए। अगर आपको पैसे निवेश करना है तो आपको किसी एक्सपर्ट से सलाह भी लेना चाहिए। डीमैट अकाउंट से जुड़ी किसी भी प्रश्न के लिए आप हमें निचे कमेंट कर सकते है या ईमेल के माध्यम से हमसे संपर्क कर सकते है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.